रामराज्य किताब हिंदी पीडीएफ RAMRAJYA BOOK PDF FREE DOWNLOAD

रामराज्य किताब हिंदी में पीडीएफ RAMRAJYA BOOK PDF FREE DOWNLOAD Ram Rajya book by Ashutosh Rana in Hindi ashutosh rana book pdf free download

- Advertisement -

जो भी लोग हिन्दू धार्मिक पुस्तक पढ़ना पसंद करते है उनके लिए रामराज्य किताब हिंदी में पीडीएफ डाउनलोड लिंक शेयर किया जा रहा है साथ ही कुछ पुस्तक के अंश भी यहाँ लिखा हुआ शेयर कर रहे है

रामराज्य किताब हिंदी में

भरत नदीग्राम में ही रुक गए, उन्होंने निर्णय सुना दिया था कि प्रभु श्रीराम के अयोध्या वापस लौटने तक उनकी चरण पादुकाएँ की रघुवंश के सिंहासन पर रखी जाएँगी और स्वयं राजकुमार भरत, नगर में रहते हुए भी निर्वासित जीवन जीएगा। सम्पूर्ण प्रजा और राजपरिवार को शत्रुधन के साथ अयोध्या लौटा दिया गया था।

अयोध्या के इतिहास में यह पहला अवसर था जब उसके गौरवशाली सिंहासन पर कोई पुरुष नहीं किसी प्रतीक को प्रतिष्ठित किया गया। था। अनाथ हुई अयोध्या अपने इस दुर्भाग्य के लिए महारानी कैकेयी को दोष दे रही थी, जिसने अपनी कुत्सित इच्छा की पूर्ति के लिए अयोध्या को कुंठित करके छोड़ दिया था।

सात भाइयों की इकलौती लाडली बहन कैकेयी, पिता अश्वपति जो पक्षियों की भाषा भी समझ लेते थे उनकी प्राणप्रिय बेटी कैकेयी आज अपमानित प्रवंचित सी अयोध्या के अपने महल में एकाकी खड़ी थिर नेत्रों से शिवालय में जलने वाले ज्योतिकलश की ज्योति को अपलक देख रही थी कि तभी उनके कानों में अपनी प्रिय दासी दीपशिखा का स्वर सुनाई दिया- महारानी, महारानी सुमित्रा और राजरानी श्रुतकीर्ति आपके दर्शन करना चाहती है।

RAMRAJYA BOOK PDF FREE DOWNLOAD

रात्रि के तीसरे पहर मिरा और शत्रुधन की पत्नी श्रुतकीर्ति का अपने महल में आना सुनकर का चित पल भर को किसी अनहोनी की आशंका से भर गया, किंतु अगले की क्षण उसने स्वयं को संयत किया और बिना कुछ कहे अपने महल के स्वागत कक्ष की और बढ़ गयी का में पहुँचकर उसने देखा कि प्रत्येक परिस्थिति में सहज रहने वाली सुमा थोड़ी असहज और आशंकित भी है,

सुमित्रा ने कैकेयी के झुककर चरणस्पर्श किए, राम वनवास के बाद यह पहला अवसर था जब कैकेयी को किसी ने सम्मान दिया था, अन्यथा परिवार ह या प्रजा चारों ओर से कैकेयी के लिए मात्र धिक्कार के स्वर ही उठ रहे थे, और क्यों ना उठ कैकेयी इस बात को बहुत अच्छे से जानती थी कि कैकेयी का मान उसका सम्मान उसका प्राणप्रिय पुत्र राम ही है, इसलिए जब तक राम था तब तक मान था अब जब राम ही अयोध्या में नहीं है तो मान कहाँ से होगा ? कैकेयी ने सुमित्रा के दोनों कंधों को स्नेह से पकड़ लिया उसके स्पर्श में एक आश्वस्ति थी।

यूँ तो इन दोनों की वय में कुछ खास अंतर नहीं था किंतु जब से सुमित्रा इस घर में आयी है कैकेयी में उसे अपनी माता को छवि ही दिखाई दी है और कैकेयी ने भी अपने भाव भाषा व्यवहार से सुमित्रा के लिए सदैव माता के दायित्व का ही निर्वाह किया, पल भर के लिए भी उसके मन में सुमित्रा के लिए सहपत्नी का भाव नहीं आया कैकेयी की उपस्थिति सुमित्रा में सुरक्षा का भाव उत्पन्न करती थी। सुमित्रा अक्सर उससे कहा करती थी जीजी तुम इतनी सुंदर हो कि तुम्हें देखकर गूँगा

रामराज्य किताब हिंदी पीडीएफ RAMRAJYA BOOK PDF FREE DOWNLOAD

This book was brought from archive.org as under a Creative Commons license, or the author or publishing house agrees to publish the book. If you object to the publication of the book, please contact us.for remove book link or other reason. No book is uploaded on This website server. Only We given external Link

Related PDF

LATEST PDF