फैजान ए अजान पीडीऍफ़ Faizan e Azan PDF DWONLOAD

फैजान ए अजान पीडीऍफ़ Faizan e Azan PDF DWONLOAD azan ka jawab dene ki fazilat pdf azan की fazilat hadith fajar ki azan ka jawab dena

- Advertisement -

दुरूद शरीफ़ की फ़ज़ीलत

सरकारे मदीना, सुल्ताने वा करीना, करारे कुल्बो सीना, फैज़ गन्जीना, साहिबे मुअतर पसीना ॐ का इशदि रहमत बुन्याद है : जिस ने कुरआने पाक पढ़ा, रव तआला की हम्द की और नबी (Lajje aa 30) पर दुरूद शरीफ पढ़ा नीज़ अपने रब से मरिफरत तलब की तो उस ने भलाई को अपनी जगह से तलाश कर लिया।

सरकार एक बार अज़ान दी – फैजान ए अजान पीडीऍफ़

नविय्ये अकरम सल्ल ने सफ़र में एक बार अज़ान दी थी और कलिमाते शहादत यूं कहे गवाही देता हूं कि मैं अल्लाह का रसूल हूं) ।

आज़ान है या अज़ान ?

बाज़ लोग “आज़ान” कहते हैं यह गलत तलफ्फुज है। आजान जम्अ है “उजुन” की और उजुन के माना हैं: कान। दुरुस्त तलफ्फुज अज्ञान है। अज्ञान के लुग्वी माना हैं: ख़बरदार करना। “फैजाने अजान” के नव हुरूफ़ की निस्बत से अज़ान के फ़ज़ाइल पर मुश्तमिल 9 अहादीसे मुस्तफ़ाasaa jata jo (1) क़ब्र में कीड़े नहीं पड़ेंगे

सवाब की खातिर अज़ान देने वाला उस शहीद की मानिन्द है जो खून में लिथड़ा हुवा है और जब मरेगा कुब्र में उस के जिस्म में कीड़े नहीं (المعجم الكبير للطبرانی ج ۱۲ ص۳۲۲ حدیث ١٣٠٠٤) 2) मोती के गुम्बद मैं जन्नत में गया, उस में मोती के गुम्बद देखे उस की खाक मुश्क की है। पूछा :

ऐ जिब्रईल ! येह किस के वासिते हैं ? अर्ज की : आप अब उनके जैसे की उम्मत के मुअज्ज़िनों और इमामों के लि (الجامع الشهير الشيوفي من ٢٠٠ حديث ٤١٢٩)

  • गुज़श्ता गुनाह मुआफ जिस ने पांचों नमाज़ों की अज्ञान ईमान की बिना पर
  • व निय्यते सवाब कहीं उस के जो गुनाह पहले हुए हैं मुआफ हो जाएंगे
  • और जो ईमान की बिना पर सवाब के लिये अपने साथियों की पांच नमाज़ों में इमामत करे
  • उस के गुनाह जो पहले हुए हैं मुआफ कर दिये जाएंगे।

शैतान 36 मील दूर भाग जाता है – Faizan e Azan PDF

“शैतान जब नमाज के लिये अजान सुनता है भागता हुवा रोहा पहुंच जाता है।” रावी फ़रमाते हैं: रौहा मदीनए मुनव्वरह से 36 मील दूर है।

  • अज़ान कबूलिय्यते दुआ का सबब है जब अजान देने वाला अज़ान देता है
  • आस्मान के दरवाजे खोल दिये। जाते हैं और दुआ कबूल होती है।
  • मुअज्ज़िन के लिये इस्तिफार मुअज्जिन की आवाज़ जहां तक पहुंचती है
  • उस के लिये मफिरत कर दी जाती है और हर तर व खुश्क
  • जिस ने उस की आवाज़ सुनी उस के लिये इस्तिरफार करती है।
  • अज़ान वाले दिन अज़ाब से अम्न जिस बस्ती में अज्ञान दी जाए,
  • अल्लाह अपने अजाब से उस दिन उसे अम्न देता है।
  • घबराहट का इलाज – जब आदम) जन्नत से हिन्दुस्तान में उतरे
  • उन्हें घबराहट हुई तो जिब्रईल ) ने उतर कर अज़ान दी।

फैजान ए अजान पीडीऍफ़ Faizan e Azan

This book was brought from archive.org as under a Creative Commons license, or the author or publishing house agrees to publish the book. If you object to the publication of the book, please contact us.for remove book link or other reason. No book is uploaded on This website server. Only We given external Link

Related PDF

LATEST PDF