PDF VISHNU PURAN: विष्णु पुराण गीता प्रेस पीडीऍफ़ डाउनलोड

विष्णु पुराण गीता प्रेस पीडीऍफ़ डाउनलोड विष्णु पुराण हिंदी PDF DOWNLOAD: विष्णु पुराण कथा इन हिंदी विष्णु पुराण अध्याय सभी डाउनलोड करें फ्री

PDF NAMEVISHNU PURAN
PUBLISHERGITA PRESS GORAKHPUR
PAGE558
PDF SIZE1 GB
CATEGORYHINDUISM BOOK
CREDITGORAKHPUR HINDI
DOWNLOAD☑️YES LINK

विष्णु पुराण गीता प्रेस अध्याय

  • पहला अध्याय: विष्णुपुराण में सर्ग और भू-लोक का उद्भव, काल का स्वरूप तथा ध्रुव, पृथु व भक्त प्रह्लाद का की जानकारी मिलती है।
  • दूसरा अध्याय: तीनों-लोक के स्वरूप, पृथ्वी के नौ खण्ड, ग्रह नक्षत्र, ज्योतिष व अन्य की जानकारी मिलती है
  • तीसरा अध्याय: मन्वन्तर, ग्रन्थों का विस्तार, गृहस्थ धर्म और श्राद्ध विधि आदि का महत्त्व की जानकारी मिलती है
  • चौथा अध्याय: चतुर्थ अंश में सूर्य व चन्द्रवंश के राजा तथा उनकी वंशावलियों का वर्णन किया गया है।
  • पांचवा अध्याय: पंचम अंश में भगवान श्री कृष्ण के जीवन चरित्र की व्याख्या की गई है।
  • छठा अध्याय: मोक्ष तथा समाप्ति का विवरण देखने को मिलता है, जो हिन्दू धर्म का परम लक्ष्य होता है।

VISHNU PURAN GITA PRESS

विष्णु पुराण में उल्लेख पाठ से कुछ अंश/अध्याय के नाम यहाँ शेयर किया जा रहा है जिसे आप पुस्तक में भी आप पढ़ना चाहे तो पढ़ सकते है

  1. ग्रन्थका उपोद्घात
  2. चौबीस तत्त्वोंके विचारके साथ जगत्के उत्पत्ति-क्रमका वर्णन और विष्णुकी महिमा
  3. ब्रह्मादिकी आयु और कालका स्वरूप
  4. ब्रमाजीकी उत्पत्ति, वराहभगवान्द्वारा पृथिवीका उद्धार और ब्रह्माजीकी लोक-रचना
  5. अविद्यादि विविध सगँका वर्णन
  6. चातुर्वर्ण्य व्यवस्था, पृथिवी विभाग और अन्नादिकी उत्पत्तिका वर्णन
  7. मरीचि आदि प्रजापतिगण, तामसिक सर्ग, स्वायम्भुवमनु और शतरूपा तथा उनकी सन्तानका वर्णन
  8. रौद्र-सृष्टि और भगवान् तथा लक्ष्मीजीकी सर्वव्यापकताका वर्णन
  9. दुर्वासाजीके शापसे इन्द्रका पराजय, ब्रह्माजीकी स्तुतिसे प्रसन्न हुए भगवान्‌का प्रकट होकर देवताओंको समुद्र मन्थनका उपदेश करना तथा देवता और दैत्योंका समुद्र मन्थन
  10. भृगु, अग्नि और अग्निष्वात्तादि पितरोंकी सन्तानका वर्णन
  11. ध्रुवका वनगमन और मरीचि आदि ऋषियोंसे भेंट
  12. ध्रुवकी तपस्यासे प्रसन्न हुए भगवान्‌का आविर्भाव और उसे ध्रुवपद-दान
  13. राजा वेन और पृथुका चरित्र
  14. प्राचीनवर्हिका जन्म और प्रचेताओंका भगवदाराधन
  15. प्रचेताओंका मारिया नामक कन्याके साथ विवाह, दक्ष प्रजापतिकी उत्पत्ति एवं दक्षकी आठ कन्याओंके वंशका वर्णन
  16. नृसिंहावतारविषयक प्रश्न
  17. हिरण्यकशिपुका दिग्विजय और प्रहलाद चरित
  18. प्रलादको मारनेके लिये विष, शस्त्र और अग्नि आदिका प्रयोग एवं प्रहलादकृत भगवत्-स्तुति
  19. प्रहलादकृत भगवत्-गुण-वर्णन और प्रहलाद की रक्षाके लिये भगवान्का
This book was brought from archive.org as under a Creative Commons license, or the author or publishing house agrees to publish the book. If you object to the publication of the book, please contact us.for remove book link or other reason. No book is uploaded on This website server only external link is given

Related PDF

LATEST PDF